Aye watan aye watan humko teri kasam

Here you find the full and original lyrics of Aye watan aye watan humko teri kasam in English and Hindi and video song on youtube.




Mohd. Rafi

Song – Aye watan aye watan humko teri kasam

Film – Shaheed (1965)

Lyricist – Prem Dhawan

Singer – Mohammed rafi

Music Director – Prem Dhawan

Cast – Manoj Kumar & Prem Chopra

Lyrics in English



Jalte bhi gaye, kehte bhi gaye
Aazadi ke parwaane
Jeena to usi ka jeena hai
Jo marna watan pe jaane
Aye watan aye watan humko teri kasam
Teri raahon mein jaan tak luta jaayenge
Phool kya cheez hai, tere kadmon pe hum
Bhent apne saron ki chadha jaayenge
Aye watan aye watan humko teri kasam
Teri raahon mein jaan tak luta jaayenge
Aye watan aye watan

Koi Punjab se, koi Maharashtra se
Koi U. P. se hai, koi Bengal se
Koi Punjab se, koi Maharashtra se
Koi U. P. se hai, koi Bengal se
Teri pooja ki thaali mein laaye hain hum
Teri pooja ki thaali mein laaye hain hum
Phool har rang ke, aaj har daal se
Phool har rang ke, aaj har daal se
Naam kuchh bhi sahi par lagan ek hai
Jyot se jyot dil ki jaga jaayenge
Ae watan aye watan humko teri kasam
Teri raahon mein jaan tak luta jaayenge
Ae watan aye watan

Teri jaanib uthi jo kehar ki nazar
Us nazar ko jhuka ke hi dum lenge hum
Teri jaanib uthi jo kehar ki nazar
Us nazar ko jhuka ke hi dum lenge hum
Teri dharti pe hai jo kadam gair ka
Us kadam ka nishan tak mita denge hum
Us kadam ka nishan tak mita denge hum
Jo bhi deewar aayegi ab saamne
Thokron se use hum gira jaayenge
Aye watan aye watan humko teri kasam
Teri raahon mein jaan tak luta jaayenge
Aye watan aye watan

 

Click for more songs of Rafi Sahab

Lyrics in Hindi



जलते भी गए, कहते भी गए, आज़ादी के परवाने
जीना तो उसी का जीना है, जो मरना वतन पे जाने
ऐ वतन, ऐ वतन, हमको तेरी क़सम,
तेरी राहों में जाँ तक लुटा जायेंगे,
फूल क्या चीज़ है तेरे क़दमों पे हम,
भेंट अपने सरों की चढ़ा जायेंगे.
ऐ वतन, ऐ वतन, हमको तेरी क़सम,
तेरी राहों में जाँ तक लुटा जायेंगे,
ऐ वतन, ऐ वतन……
कोई पंजाब से, कोई महाराष्ट्र से,
कोई यूपी से है, कोई बंगाल से,
कोई पंजाब से, कोई महाराष्ट्र से,
कोई यूपी से है, कोई बंगाल से,
तेरी पूजा की थाली में लायें हैं हम,
फूल हर रंग के, आज हर डाल से,
नाम कुछ भी सही, पर लगन एक है,
जोत से जोत दिल की जगा जायेंगे,
ऐ वतन, ऐ वतन, हमको तेरी क़सम,
तेरी राहों में जाँ तक लुटा जायेंगे,
ऐ वतन, ऐ वतन……
तेरी जानिब उठी जो कहर की नज़र,
उस नज़र को झुका के ही दम लेंगे हम,
तेरी जानिब उठी जो कहर की नज़र,
उस नज़र को झुका के ही दम लेंगे हम,
तेरी धरती पे है जो, क़दम गैर का,
उस क़दम का निशां तक मिटा देंगे हम,
उस क़दम का निशां तक मिटा देंगे हम,
जो भी दीवार आएगी अब सामने,
ठोकरों से उसे हम गिरा जायेंगे,
ऐ वतन, ऐ वतन, हमको तेरी क़सम,
तेरी राहों में जाँ तक लुटा जायेंगे,
ऐ वतन, ऐ वतन……
सह चुके हैं सितम हम बहुत गैर के,
अब करेंगे हर एक वार का सामना,
सह चुके हैं सितम हम बहुत गैर के,
अब करेंगे हर एक वार का सामना,
झुक सकेगा ना अब सरफरोशों का सर,
चाहे हो खूनी तलवार का सामना,
चाहे हो खूनी तलवार का सामना,
सर पे बांधे कफ़न, हम तो हँसते हुए,
मौत को भी गले से लगा जायेंगे,
ऐ वतन ऐ वतन
जब शहीदों की अर्थी उठे धूम से,
देशवालो तुम आंसू बहाना नहीं,
पर मनाओ जब आज़ाद भारत का दिन,
उस घड़ी तुम हमें भूल जाना नहीं,
लौट कर आ सकें ना जहाँ में तो क्या,
याद बनके दिलों में तो आ जायेंगे,
ऐ वतन, ऐ वतन, हमको तेरी क़सम,
तेरी राहों में जाँ तक लुटा जायेंगे,
ऐ वतन, ऐ वतन……
ऐ वतन, ऐ वतन, हमको तेरी क़सम,
तेरी राहों में जाँ तक लुटा जायेंगे,
फूल क्या चीज़ है तेरे क़दमों पे हम,
भेंट अपने सरों की चढ़ा जायेंगे.
ऐ वतन, ऐ वतन, हमको तेरी क़सम,
तेरी राहों में जाँ तक लुटा जायेंगे,
इन्कलाब जिंदाबाद…..
इन्कलाब जिंदाबाद…..
इन्कलाब जिंदाबाद…..
इन्कलाब जिंदाबाद…..
इन्कलाब जिंदाबाद…..
इन्कलाब जिंदाबाद…..




 

 

Every step has to be taken to make this article error-free, please contact us if you find any mistake.

Thanks for reading the article. Keep visiting lyricstar.in

(Visited 316 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!